Thursday, July 28, 2011

राहुल बाबा की शादी ------ हिना रब्बानी खार

नुक्कड़ पर भाई सोहन शर्मा उर्फ़ कांग्रेसी, लकदक करते नये कुर्ते में नजर आये इत्र पाउडर लगा चमचमा रहे थे । हमने पूछा - शर्मा जी आज तो कहर ढा रहे हो कहां की तैयारी है । शर्मा जी - बोले, लड़की देखने जाना है भाई । तभी आसिफ़ भाई ने टांग अड़ाई बोले मियां एक शादी में तो सुबह शाम पिटते हो , फ़िर भी मन नही भर रहा । शर्मा जी भड़क गये - बोले, आप को हर बात में मजाक सूझता है । यहां हम देश हित में लड़की देखने जा रहे हैं । प्यारी मम्मी का आदेश आया है इस बुरे समय को दूर करने नयी महारानी चाहिये बाबा के लिये सभी लोग अच्छी सी सुशील लड़की देखें । हमने पूछा - भाई, तो कैसी लड़की खोजने जा रहे हो जवाब मिला यही तो मशविरा करने आप लोगों के पास आया हूं कि लड़की कैसी होनी चाहिये ।


हमने कहा -  भाई , कैटरीना कैफ़ सहीं रहेंगी, शर्मा जी सोच मे पड़ गये , कहने लगे है तो बड़ी सुंदर पर वो तो फ़िल्मी कलाकार है । हमने कहा  - भाई , वो एक दम सूट करेगी आपका बाबा आधा भारतीय वो आधी भारतीय दोनो मिलकर पूरे भारतीय बन जायेंगे । शर्मा जी फ़िर भड़क गये , कहने लगे यार दवे जी मजा लेना है तो मैं चला वरना बात गंभीर चिंतन की है गंभीरता से लो । हमने सर खुजाया - भाई ,हिंदू या मुस्लिम लड़की कैंसल , शर्मा जी अचकचाये - फ़िर तो नब्बे फ़ीसदी लड़कियां कम हो जायेंगी । हमने कहा भाई बाबा हिंदू लड़की से शादी करेगा तो मुस्लिम साथ छोड़ देंगे । मुस्लिम से करेगा तो हिंदू वोट बैंक खसक जायेगा । शर्मा जी ने सर हिलाया  - बोले . सिख लड़की कैसी रहेगी हमने मेनका गांधी जिंदाबाद का नारा लगा दिया । शर्मा जी ने तड़ से विषय बदल लिया । बोले - गुरू मैने ट्रंप कार्ड खोज लिया है दलित लड़की से करवा देता हूं । हमने कहा - मियां दलित घरों मे सोने की नौटंकी अलग बात है , शादी कर पायेगा तुम्हारा बाबा अनपढ़ गरीब लड़की से । शर्मा जी भड़क गये - क्या बेकार की बात है दलितो में पढ़े लिखे लोग नही है क्या , कई दलित उंचे पदो पर बैठे हैं उनमे से किसी की सुंदर सी लड़की से करवा देंगे ।


हमने कहा -  भाई , पढ़ लिख लिये साहब बन गये तो फ़िर वो दलित रहे कहां , दलित तो वो हैं जो गरीब हैं भूमीहीन हैं । इसमें तुम्हारा आरक्षण वाला झुनझुना नही चलेगा कि आरक्षण दे भी दिया और नौकरी अमीर पा रहे हैं । शर्मा जी ने पूछा -  ईसाई लड़की के बारे मे क्या ख्याल है । हमने कहा - शर्मा जी , पुरानी मम्मी ईसाई आपके जीजाजी ईसाई अब क्या नयी मम्मी भी वही लाओगे  । संघ वाले चढ़ नही बैठेंगे ऐसे ही आप लोगो की जान सांसत मे किये हुये हैं । शर्मा जी उदास हो गये - बोले , भाई क्या हमारा बाबा कुंवारा ही रहेगा ।

हमने पूछा - इस हिना रब्बानी खार के बारे में क्या खयाल है , एक दम ठांय ठांय़ दिखती है । शर्मा जी नाम सुनते ही पहले प्रसन्न हो गये फ़िर ठांय ठांय़ सुन भड़क गये -  खबरदार हमारी होने वाली मम्मी के बारे में कुछ कहा तो । हमने कहा  - ओ मियां शेखचिल्ली होश मे आओ , नाम सुना नहीं और मम्मी बना लिया । इतनी सुंदर शालीन महिला है सिर्फ़ चेहरा बस दिखता है ।हमने ठांय ठांय़ उनके चेहरे के लिये कहा और आपने अपने गंदे मन में पता नही क्या क्या सोच लिया । शर्मा जी झेंप गये - बोले , आईडिया तो बहुत ही अच्छा है । भारत पाकिस्तान में एकता भी हो जायेगी और सानिया मिर्जा का बदला भी चुका दिया जायेगा । पर ये संघ वाले क्या बोलेंगे ये तो हंगामा मचा देंगे । हमने कही - भाई , संघ वाले कुछ नही कहेंगे । आजकल उन्होने एक नया नक्शा बना लिया है , जिसमे हिंदू राष्ट्र मे नेपाल बर्मा से लेकर पाकिस्तान सभी को जोड़ दिया है । अब देश के अंदर शादी करने में उनको क्या आपत्ती और वो तो कहते ही हैं , "जो हिंदुस्तान मे रहता है वो हिंदू है"

शर्मा जी खुशी से उछल गाड़ी में बैठे ही थे कि आसिफ़ भाई  ने टोका - ओ हड़बड़ी लाल कहां भाग रहे हो , हिना की शादी पहले ही हो चुकी है । सुना नही नाम हिना रब्बानी खार , खार उसके पति का सरनेम है । इतना सुनते ही साहब शर्मा जी टूटा दिल लिये घर चले गये । हमने आसिफ़ भाई से पूछा -  क्यों भाई क्यों शर्मा जी को टॊपी दे दी खार तो हिना के गांव का नाम है । आसिफ़ भाई ने आंख मारी बोलने लगे - इस कपटी शर्मा जी ने जब जीजा जी चुनते समय हम दोनो के नाम पर विचार नही किया । तो हम क्यो इसकी मम्मी खोजो अभियान में मदद करें । वैसे दवे जी उसकी शादी वाकई हो चुकी है , उसके पति का नाम अशफ़ाक हुसैन है और उसके तीन बच्चे भी हैं ।



इतना सुनते ही साहब दिल शर्मा जी की तरह टूट गया , भले शादी शुदा हम भी हैं। पर किसी सुंदर लड़की के शादी शुदा होने की बात सुन दिल टूट ही जाता है


Comments
16 Comments

16 comments:

  1. nice way of putting the things. It was a great step on pakistan's part to have such a relatively young female foreign minister.

    ReplyDelete
  2. दवे भाई संघ वाले कुछ नही कहेंगे । मां को अपने बेटे को आदमी बनाने में बीस बरस लगते हैं और एक अन्य महिला उसे बीस मिनिट में बेवकूफ बना देती है। देखते हैं "हिना की जवानी" चलेगी या "ज़ुबानी".

    ReplyDelete
  3. अजी कितनों का दिल तोड़ दिया कम से कम भ्रम तो बना रहने देते, वैसे पाक-हिंद दोस्ती का नायब नुस्खा बता दिया आपने

    करारा

    ReplyDelete
  4. बड़ा जोरदार और धासूं ! पढकर मजा आ गया|

    ReplyDelete
  5. हा हा हा हा
    इस चक्कर में बाबा तो कुवांरे ही रह गए...
    अरे गंभीरतापूर्वक शर्मा जी कि मदद करिए बाबा के मामले में....
    मुझे अभी भी हंसी आ रही है लेकिन छोडो शर्मा जी भड़क न जाएँ हंसी सुनकर....:)))

    ReplyDelete
  6. मस्त मस्त
    वैसे दिल तो हमारा भी टूटा
    बताएं किसको :)

    ReplyDelete
  7. बहुत करारा प्रहार है यह तो!
    व्यंग्य लिखने में तो आप सिद्धहस्त हैं!

    ReplyDelete
  8. एकदम मख्खन की तरह अपनी बात। प्रसंग और संदर्भ लंबे समय के लिए नहीं है। मगर प्रस्तुति बहुत खूब है। इन्हें साहित्यक व्यंज्य की श्रृंखला में रखना बेमानी होगी, बल्कि समसामयिक अंदाज में खूब कहा जा सकता है। ऐश जी अच्छे अंदाज में अपनी बात को कहने और उसे हूबहू पेश करने की इस खास अदा के लिए आपको बधाई। अगले किसी और अच्छे व्यंज्य को पढऩे के लिए जरूर हाजिर होऊंगा। बहुत खूब।
    -सखाजी

    ReplyDelete
  9. bhut achcha laga padh kar maza aa gya or is lekh mai hashi nhi gandhi parivar or congres ki sachchai bhi samne h jaise inke neta medom mammi ke jute chappal utate h aise log desh ka kya samman karenge.

    ReplyDelete
  10. wah wah wah!... hindi padhne likhne se naata hi toot gaya tha per aapne mujhe meri jade yaad dila di... dhanyawad

    ReplyDelete
  11. दो तीन लेख पढ़ के हम तो आपकी लेखनी के कायल हो गए

    ReplyDelete
  12. " ठांय ठांय़ दिखती है " हा हा हा हा , दावे जी आपका कोई तोड़ नहीं.आज से आपने अपना एक और प्रसंशक बना लिया है .

    ReplyDelete
  13. BAHUT KHUB LIKHTEY HAI AAP.............VAH.

    ReplyDelete
  14. दवे जी हमने दुल्हन ढूँढने के कई रोचक किस्से सुने और पढ़े है पर राष्ट्रीय बहु ढूँढने का यह अनोखा अभियान था,चाहे सफल ना रहा हो,लेकिन उम्मीद करता हूँ कि आप कोशिश करते रहेगे एक न एक दिन तो सफलता मिल ही जायेगी.

    अब तो उस दिन का इन्तजार है जब दवे बाबू राष्ट्रीय बारात के अनुभव भी शेयर करेंगे, आशा है मुरीद की जल्द ही इच्छा पूरी होगी.

    आमीन

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है..
अनर्गल टिप्पणियाँ हटा दी जाएगी.