Sunday, May 15, 2011

रामू काका और राहुल बाबा का गीता संवाद - भाग तीन


रामू काका(दिग्गी राजा ) की बात सुनकर बाबा ने फ़िर  शत्रु सेना की ओर देखा । वे रामू काका से बोले वो  दिव्य पताकाओ से सजे  भगवा  रथ मे सवार अतिरथी कौन है जिसके विकास धनुष की टंकार से हमारी सेना थर थर कांप रही है  । आकाश मे मंडराती ये कौन सी मायावी शक्ति है जिसके अस्त्र की चमक से दोनो पक्षो के योद्धाओं के रोंगटे खड़े हो जाते हैं ।  वो क्षण भर मे विलुप्त हो जाने वाली लाल पताकाओ से युक्त अजेय सेना किसकी है । हे रामू काका इन अपराजेय योद्धाओं का सामना हम किस तरह करेंगे ।

रामू काका गंभीर स्वर मे बोले भगवा रथ मे सवार अतिरथी महान योद्धा नरेन्द्र कर्ण है । गरीब कुल मे पैदा होकर भी यह कम समय मे महान राजकुल से टकराने की अभिलाषा रखने वाला ये योद्धा शापित है । इससे आप निश्चिंत रहें जिस क्षण ये आपसे युद्ध करने आयेगा इसके शाप के कारण इस ही की सेना मे शामिल योद्धा इसे त्याग देंगे मन ही मन इसकी अराधना करने वाले भी कभी इसे सार्वजनिक रूप से सराह न पायेंगे और यदि उनसे ऐसी भूल हो भी गयी तो वे स्वंय शापित हो जायेंगे

आकाश मे फ़िरने वाली मायावी शक्ती मीडियासुर है उसके कैमरा अस्त्र की चमक और कलम अस्त्र की दमक से सारा नेता कुल भयातुर रहता है और प्रतिदिन इसकी स्तुती करना नही भूलता इसका अपमान करने वाले को यह क्षण भर मे ही भस्म कर सकता है । यह मीडियासुर  तटस्थ रहने को प्रण बद्ध है लेकिन चूंकि इस संसार को सूचनायें पहुचाने का काम  ब्रह्म देव ने इस ही को सौंप रखा है अतः यह निर्भय होकर कभी प्रण का पालन नही करता और संसार के सामने प्रण बद्ध होने का अभिनय करता है । इसके प्रकोप से कोई योद्धा अछूता नही रह सकता पर आप इसकी चिंता भी न करें इसकी एक कमजोरी है यह कुंभकरण से भी बड़ा भूखा है और आपके कुशल सलाहकारों ने इसके रसद मार्ग को अपने कब्जे मे ले रखा है अतः यह आपके अहित को कभी तत्पर न होगा हां कभी छद्म अभिनय कर सकता है पर आपका वह सदैव आदर रखेगा ।


और क्षण भर मे विलुप्त हो जाने वाली लाल पताकाओ से युक्त अजेय सेना माओवादियों की है  । हे नित्य चापलूसो से पूजे जाने वाले महान बाबा आप इसकी तो तनिक भी चिंता न करें यह सेना कितनी भी मायावी हो पर आयुधो की आपूर्ती के लिये ये हम पर ही निर्भर है । पकड़े जाने पर शीर्ष अदालतो मे हम ही इनका ध्यान रखते हैं । हमारे राज्य की सीमाओ के अंदर इसके ट्रेनिंग कैंप लग सकते है पर यह हमला नही कर सकती यह सदा हमारे शत्रुओं पर हमला करने को बाध्य है । और हमारे द्वारा राज्य जीते जाने पर यह हमारे मन चाहे राज्य की ओर रवाना हो जाती है ये हमसे इतना प्रेम करते हैं कि स्वयं अपने पितरों की भी इन्होने इज्जत न की और उनके दशको पुराने राज्य से उनको हमारे लिये खदेड़ दिया


अपना प्रताप देख कर बाबा चकित हो गये बोले रामू काका आप न होते तो मै तो कभी अपनी ताकत जान ही न पाता  अच्छा आप मुझे उस महान योद्धा के शापित होने का राज बतायें जिसका नाम नरेन्द्र कर्ण है । राहुल बाबा वह तो बेचारा जन्म से ही अभागा है आपके राजकुल के महान कीर्तिमानो  को देख उसने राजकुल को परास्त करने की कसम खाई पर जन लोकप्रियता का ब्रम्हास्त्र जो आपको सहज ही प्राप्त है वो उसे मिल ही नही सकता था । बिना उसके वह आपसे युद्ध कर ही नही सकता था उसे युद्ध करने दिया ही नही जाता पाईप लाईन मे एक से बढ़ कर एक महान योद्धा थे फ़िर उसकी बिसात ही क्या होती । आपसे युद्ध करने और परम कीर्ति को प्राप्त करने उसने ब्रह्मास्त्र प्राप्ती के लिये वह पाप कर दिया जिसका साहस किसी और योद्धा ने कभी नही किया था उसने राजधर्म का उल्लंघन कर दिया उस उल्लंघन मे उसके हिसाब से मरे तो बहुत ही कम योद्धा और उसके पास इसका तथाकथित कारण भी था । पर उस  उल्लंघन  के साथ वह शाप भी जुड़ा था जिसे आज वह भोग रहा है । और वह हजार विकास यज्ञ भी कर ले पर शाप मुक्त होना असंभव ही नजर आता है


यह सुनते ही प्रसन्न राहुल बाबा ने आम सैनिको की ओर यूं ही नजर घुमाई अर्ध वस्त्र पहने हुये और कमजोर नजर आने वाले आम सैनिको को देखकर बाबा फ़िर दुखी हो गये बोले ये बेचारे आम सैनिक रहते तो हमारी ही कर्म भूमी मे है  । और मेरे चाचा आप जैसे मामओं और भी अन्य मेरे राजनैतिक गुरूओं एवं पूर्वजो के इसी भूमी मे कर्म रत रहने के कारण इनमे से कोई मेरा चचेरा भाई होगा कोई मेरा ममेरा भाई कोई गुरू भाई होगा तो कोई भतीजा भांजा । मै अपने ही रिश्तेदारो पर झूठे आश्वासन बाण चलाकर सम्मोहित कर विजय प्राप्त करूंगा तो क्या मुझे अपयश और पाप की प्राप्ति न होगी क्या इनके भूखे बच्चो की आह मुझे नही लगेगी ।  हे रामू काका देश का कोयला और लोहा बेच कर और टेलीफोन लाईसेंस बेच कर भरे गये हजारो स्विस बैंक खाते भी मुझे यह अपकर्म करने को प्रेरित नही कर सकते ।  मै यह युद्ध नही कर सकता क्रुपा करके मेरे हित मे हो वह बात मुझे बतायें

क्रमशः
पिछला भाग जानने के लिये -

मम्मी और दिग्गी मांमू भाग दो - रामू काका और राहुल बाबा का गीता संवाद



Comments
5 Comments

5 comments:

  1. kamal ki katha chal rahi hai, ramu kaka kii.

    ReplyDelete
  2. karn ki vyakhya bahut achhi hai aur mayavi shakti ki tulna kumbhkaran ki bhookh se hahahahahaha,adbhut coparision.
    great mork the new maha india bharat

    ReplyDelete
  3. बेहद शानदार किस्त. सबकी हकीकत कुछ अलग और दिलचस्प तरीके से बयां कर देने में आपका कोई सानी नहीं. मीडियासुर जैसी उपमाएं गहरा कटाक्ष हैं.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है..
अनर्गल टिप्पणियाँ हटा दी जाएगी.