Monday, June 6, 2011

भाई सोहन शर्मा उर्फ़ कांग्रेसी का सोनिया मम्मी को खत

आदरणीय मम्मी जी


पहले तो मेरी गुजारिश स्वीकार करें और लौटती डाक से अपनी चरणधूली भेजने की असीम क्रुपा करें । मम्मी जी आप भारत की है नही इस लिये आप को पता नही है कि यहां मां बच्चो का खयाल रखती हैं पर आप इटली की हैं तो हम बच्चो ने सदा आपका खयाल रखा कि क्या पता आप के मायके मे क्या प्रथा हो । दूसरी ओर आप हमारे देश की बहू भी हैं । और आज कल दहेज प्रताडना वाला केस भी दर्ज हो जाता है अब भारत मे केस हो तो जमानती पट्टा भी मिल ही जाता है पर यदि आप इंटरनेशनल कोर्ट मे केस दर्ज कर देंगी तो पट्टा कहा से आयेगा यही सोच कर भी  हम सभी ने आपका ध्यान रखा ।

पर मम्मी अब का मामला समझ के बाहर है नुक्कड़ चौपाल जाते डर लगता है कि कौन जूता मार दे  । ये बाबा लोग तो जाने सांसत किये हुये हैं पूछते हैं हमारे भाई पर आधी रात को डंडा क्यो । बीजेपी तो खैर विरोधी है लड़ाई पुराना है उनसे कोई दिक्कत नही पर आम आदमी से कैसे बात करें । मम्मी जी आप तो करोड़ चौरासी की मां हैं आपको पब्लिक फ़ोड़ाई के बारे मे क्या मालूम पर नित यह खतरा झेलते अब तबीयत नासाज रहने लगी है ।


प्यारी मम्मी आप के ये मुंशी मैनेजर कुछ भी बोल देते हैं कुछ भी कर देते हैं जवाब तो  हमसे मांगते है लोग । कल ही सुषमा स्वराज ये देश है वीर जवानो का वाले गाने पर राज घाट पर नाच रही थीं । तो इन लोगो ने नचनिया से लेकर क्या नही कह दिया यह भी कहा कि घटना क्रम पर जश्न मना रही थी । मम्मी भारत मे समानता है पारिवारिक माहौल मे इतनी सम्मानित महिला की खुशी जाहिर करने को ऐसे शब्द देना ? फ़िर तो आप को भी नाचते हुये भारत वर्ल्ड कप के दिन भाजपायी नचनिया कह देंगे झगड़ा हम को करना पड़ेगा मार हम को पड़ेगी । मम्मी जी आप तक बात पहुंचे नही रहा है क्या आप को पता नही लोग दुखी हैं पीडित हैं । पर गलती आप की नही है कोई आम आदमी दिखने से आपको कामन इंडियन पीपल बता कर मुंशी मैनेजर लोग पल्ला झाड़ लेते होंगे ये लोग ।

मम्मी जी आज देश का माहौल क्या हो गया है कांग्रेसी कहने से पहले सौ बार सोचना पड़ता है पहले तो यह कह्ते ही लोग प्यार करते थे महात्मा सी जय जय कार करते थे ।  आज मालूम पड़ते ही अपराधी सा  व्यहवार होता है जूतो से गालियो से सत्कार होता है । प्यारी मम्मी क्या कमी रह गयी थी आज तक तो यह जनता सभी कुकर्मो को सह गयी थी ।  माफ़ कीजियेगा पर आपके राज मे मीडीया पर वह अंकुश नही  जो आपकी सास के जमाने मे था । सबक लीजिये इंदिरा सा व्यहवार कीजिये कुछ भी हो पर टीवी मे नही आना चाहिये ।



ये कैसे हुआ कि लोक तंत्र मे बाबा लोग अन्ना लोग देश हित को आगे आ रहे हैं आपके मुंशी मैनेजर कहते हैं कि ब्लैक मेलिंग है बाबा फ़्रौड है अन्ना मुखौटा है । पर मम्मी जी अगर इन लोग ऐसे हैं और अपने मन मोहन संत है महात्मा हैं तो देश मे इतना भ्रष्टाचार कैसे हो गया । क्या आर एस एस और बीजेपी राजा के पीछे है और नही भी है तो भी दिग्गी मामू ऐसा बयान क्यो नही दे रहे उनको छोड़े तो बाबा और उसके ब्वायफ़्रेंड बालकिशन को ही क्यो नही लपेट लेते। मै गरीब आपको क्या सलाह दूं आप ही कोई रास्ता निकाल लीजिये मै  । तो अब तक  इस महान राजवंश का मुलाजिम था और खैर आगे भी रहूंगा दाल रोटी और नमक का गुलाम हूं । पर आप से एक ही गुजारिश है मम्मी जी कांग्रेस मे यदि कोई गुप्त पद हो जिस बारे मे जनता न जान सके तो वह देकर प्लीज मेरा ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष पद वापस ले लें  ।

आपका स्वय़ंसेवक

सोहन शर्मा
Comments
13 Comments

13 comments:

  1. बहुत सुंदर .........सोहन शर्मा जी के मुख से तो देश के सारे काग रेसी के दुःख कहलवा दिया आप ने .

    ReplyDelete
  2. अच्छा पोस्ट है जी आपक!अपना महत्वपूर्ण टाइम निकाल कर मेरे ब्लॉग पर जरुर आए !
    Free Download Music + Lyrics
    Free Download Hollywwod + Bollywood Movies

    ReplyDelete
  3. रंगा हुआ अंग्रेजी रंग में अपना रंग तो मम्मी जी।
    इसीलिए जूते खाता हूँ जगह-जगह पर मम्मी जी!!
    --
    बहुत सटीक व्यंग्य!

    ReplyDelete
  4. sohan sharma ji ne wo saari batee keh di jo hamare dil mai thi but kisi wajah se shabdo mai nahi aa pa rahi thi wah sohan bhai wah.....

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बढ़िया पोस्ट,सच में आजकल लोग भाजपाई तो होते हैं पर कांग्रेसी नहीं, दुःख की बात है.
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. बात तो अच्छी है पहुचने दो जहां तक पहुंचे
    कौन अब बोलेगा मम्मी जूते जुबां तक पहुंचे

    ReplyDelete
  7. ये तो अंदर की बात थी आप कैसे जान गये..

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी बात बयाँ कर दी सोहन शर्मा जी आपने

    ReplyDelete
  9. नेक सलाह ... पहुँच सके मम्मीजी तक ..

    ReplyDelete
  10. bahut khoob nape-tule shabdon me aapne bat to pahuchai mummi tak, lekin ye sab Itelian me likah hota to na pahunchti! badhai !

    ReplyDelete
  11. the letter is hyped with feelings and filled with quite a lot of emotions but mummyji doesnot know hindi, u will have to give her a translated version and then hope so it passes through all those core advisors and reaches her, anyway all the best Sohanji

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया.... बहुत करारा....
    सादर...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है..
अनर्गल टिप्पणियाँ हटा दी जाएगी.