Saturday, June 4, 2011

बाबा राम देव को सत्ता सुंदरी का उलाहना पत्र

चिर कुंवारे बाबा

प्यारे इस लिये नही लिखा कि मै आपसे सख्त नाराज हूं मेरे पिछले प्रेम पत्र मिलने के बाद भी आप नही माने । आपने वह काम कर दिया जिसके खिलाफ़ हमने आपको सख्ती से चेतावनी दी थी । आप को पता नही है कल दिग्गी मामू आये थे और हमे चिढ़ा रहे थे देखो सुंदरी मै न कहता था खोदा बाबा निकली बीजेपी बात इस पर भी खत्म नही हुई लालू चाचा तो कह गये कि तुम्हारा बाबा पगला गया है योगा सिखाये खामखा तुम्हारे पीछे पड़ा है सब समर्थक भाग जायेगा । मैने आपको कई बार कहा कि अपने अभियान को धर्म और राजनीती से दूर रखो पर आप माने नही ले आये उस साध्वी रितंभरा को साथ जिससे हम बहुत चिढ़ते है । हमारे 120 करोड़ बच्चे हैं और हम सभी से प्यार करते हैं और आपस मे द्वेश होगा तो विनाश  राज्य का ही हो जायेगा । आपको मैने सारी बाते समझायी थीं श्राप का भी पाठ पढ़ाया था पर आप नही माने और आपके स्वागत मे चरणधूली फ़ांकती राज्यसभा आज आपके छीछालेदर को तत्पर है कल तक जो बाते शकुनी (दिग्गी) मामा कहता था आज माता गांधारी (इटली वाली) भी उसी लाईन पर चल पड़ी है

क्या आप नासमझ हो क्या जरूरत थी आपको बीजेपी और संघ को साथ लेने की क्या आपको पता नही था वे भी आकंठ भ्रष्टाचार मे डूबे हुये हैं । उनको साथ लेने के पहले क्या आपको पता नही था कि ऐसा करने से जो स्वामी की पदवी आपने धारण कर रखी थी का पद जाता रहेगा । उस साध्वी को मंच पर बैठाने से क्या आपके समर्थको मे एक भी व्रुद्धी हुयी नही बल्कि लाखो लोग आपसे रूष्ट हो गये । ये लोग जो नारा लगाते है "जो हिंदू हित की बात करेगा वही देश मे राज करेगा " इन लोगो को क्या मालूम है हिंदूओं का हित किसमे है । क्या हिंदू राष्ट्र बन जाने से सब सवाल खतम हो जायेंगे क्या फ़िर हिंदुओ के अंदर भी जातिवाद नही है । क्या मुस्लिम राष्ट्र बन कर पाकिस्तान स्वर्ग बन गया आज रोज मस्जिदो मे बम धमाके हो रहे हैं अर्थ व्यवस्था ध्वस्त है । राज्य का हित सर्व धर्म समभाव मे होता है क्या ये बात नही जानते थे जो इन लोगो को साथ लिया ।  यह बीजेपी जो चारो ओर भ्रष्टाचार मे लिप्त है अगर इतनी ही देश प्रेमी हिंदू प्रेमी है तो क्यो नही नरेन्द्र मोदी जैसे ईमानदार और विकास पुरूष को अपना नेता बनाती क्योंकि इन्हे पता है जिस दिन मोदी जैसा ईमानदार आदमी आ गया इनकी दाल रोटी बंद हो जायेगी ये तो बस मोदी क फ़ोटू दिखाती है और खुद खीर मलाई खाती है । यह बीजेपी आपके साथ इसिलिये होना चहती है कि खुद भ्रष्टाचार से ग्रस्त होने के कारण जब भी वह सरकार पर आरोप लगाती है सरकार आईना दिखा कर मुह बंद करा देती है ।


क्यों आपने बीमार , विकलांग महिला पुरूषो बजुर्गो और बच्चो वाली माताओ को अनशन मे शामिल होने दिया क्या आपको मालूम नही था कि आपात स्थिती आने पर इन पर क्या अनहोनी बीत सकती है। आपने पार्दर्शिता भी नही बरती सरकार से क्या बात चीत हो रही है और ये आपका ब्वायफ़्रेंड बालक्रुष्ण कौन है इसके पहले तो कभी इसका चेहरा सामने नही आया । क्यो उसने दस्तखत किये समझौता पत्र पर और कर ही लिये तो फ़िर तनातनी की स्थिती क्यों आने दी क्यो चर्चा से सौहाद्र पूर्ण वातावर्ण खत्म हो गया । इसके लिये सरकार जिम्मेदार थी तो आपने जनता को पूरी बात क्यो नही बताई पूरा मीडिया आपके साथ था ।


देखिये बाबा रामदेव ये आंदोलन आपका अकेले का नही है पूरे देश की जनता जो आकंठ भ्रष्टाचार और कांग्रेस की तानाशाही से त्रस्त है ने आपमे अपनी उम्मीद की किरण देखी है आज आपके आंदोलन पर हुये अत्याचार की घटना ने देश को झकझोर दिया है । इस देश की सोई हुयी १२० करोड़ जनता को उठने के लिये ऐसी ही किसी घटना का इंतजार था आज वह आपके साथ खड़ी है । अकेले चलो आगे बढ़ो पूरा देश उठ खड़ा होगा पर याद रखना फ़िर अंतिम चेतावनी दे रही हूं किसी भी राजनैतिक दल को साथ लिया तो आप खुद भी उनके दलदल मे समा जाओगे । और फ़िर सरकार से आप उसी व्यहवार की उम्मीद करना जैसा किसी साथी चोर भ्रष्ट राजनैतिक दल के साथ किया जाता है ।

आपकी हो सकने वाली

सत्ता सुंदरी
Comments
16 Comments

16 comments:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (6-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. चाहे लाख तूफ़ां आए,
    चाहे जान भी चली जाए।
    भ्रष्ट्राचारियों के खिलाफ़ अभियान जारी रहेगा।
    बाबा को कुटनियों को पहचानना होगा।

    लगे रहो बाबा।

    ReplyDelete
  3. काश इस जनता की स्मरणरशक्ति अगले चुनाव तक इसका साथ दे

    ReplyDelete
  4. ramdev baba ka andolan nahi wo ab janta ka andolan hai,ab use kuchalana itna aasaan nahi hai.satta sundari ki chetawani bhi thik hi hai.

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्‍छा लिखा है आपने. राजनीति इतनी आसान नहीं है जितनी सोची जा रही थी. कपिल सिब्‍बल हो या प्रणव मुखर्जी सब भ्रष्‍ट हैं.

    मेरे ब्‍लॉग पर भी आएं.

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्‍छा लिखा है आपने

    ReplyDelete
  7. आज की टिप्पणी में वस इतना ही कहूँगा!

    करें विश्वास अब कैसे, सियासत के फकीरों पर
    उड़ाते मौज़ जी भरकर, हमारे ही जखीरों पर

    रँगे गीदड़ अमानत में ख़यानत कर रहे हैं अब
    लगे हों खून के धब्बे, जहाँ के कुछ वज़ीरों पर..

    ReplyDelete
  8. Very well said Arunesh ji.

    ReplyDelete
  9. bahut saarthak byang karataa hua sachchai liye hua lekh.itane achche lekh ke liye badhaai sweekaren.




    please visit my blog.thanks

    ReplyDelete
  10. Ye baate yaad rakhe agle chunav tak kaam aayega.

    ReplyDelete
  11. एक बार फिर शिव त्रिनेत्र को,प्रलय रूप खुल जाने दो
    एक बार फिर महाकाल बन इन कुत्तों को तो मिटाने दो..
    एक बार रघुपति राघव छोड़ , सावरकर को गाने दो...
    एक बार फिर रामदेव को, दुर्वासा बन जाने दो...

    "आशुतोष नाथ तिवारी"

    ReplyDelete
  12. Kul Bhushan GargJune 6, 2011 at 8:41 AM

    is desh mein kya ho raha hai .mool prashan brashtachar ko khatam karne aur kale dhan ko vapas lane ka hai ...is par sarkar ko gambheerta se kaam karna chahiye .Mujhe nahi lagta ke sarkar is vishay par gambhir hai kyun ke in netaon ko apni kursi hilti nazar aati hai ...inhi ka hi to paisa hai un videshi banko mein .Ye kabhi nahi chahenge ke kisi ko ye baat pata chale .Is liye ye darte hain ke inke naam saamne aate hi inki kursi gayi .Is liye aam janta ko koi rahat ki umeed nazar nahi aa rahi hai .

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया, लाजवाब,केवल सत्य लिखा है आपने,!

    बधाई विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. bahut had tak sahi kaha hai aapne

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है..
अनर्गल टिप्पणियाँ हटा दी जाएगी.